team banner

Home
मुद्रण ई-मेल

 केन्द्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान हिसार के 33 वें स्थापना दिवस के उपलक्ष में भैंस मेला संपन्न

केन्द्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान हिसार के 33 वें स्थापना दिवस के उपलक्ष में भैंस मेला व प्रदर्शनी का आयोजन 4 फरवरी, 2017  को संस्थान के प्रांगणमें किया गया। यह कार्यक्रम संस्थान द्वारा हरियाणा किसान आयोग एवं भारतीय भैंस विकास सोसार्इटी के सहयोग से आयोजित किया गया I इस बार 8 देशों (मयंमार , कंबोडिया, लाओस, फ़िलीपीन्स, इंडोनेशिया,मलेशिया, थाईलैंड, वियतनाम) के 16 प्रतिभागियों ने मेले का अवलोकन किया I इस अवसर पर  एक भव्य भैंस मेला एवं प्रदर्शनी का आयोजन किया गया था।मेले का उदघाटन डॉ अनिल कुमार श्रीवास्तव, सदस्य, कृषि वैज्ञानिक चयन मंडल,नई दिल्ली  मुख्य अतिथि द्वारा किया गया और डॉ रामेश्वर सिंह, निदेशक, कृषि ज्ञान प्रबंधन निदेशालय,नई दिल्ली विशिष्ठ अतिथि के तौर पर उपस्थित थे।
 

इस अवसर पर माननीय अतिथियों ने संस्थान द्वारा किए जा रहे उत्कृष्ट अनुसंधान के लिए निदेशक तथा सभी वैज्ञानिकों एवं तकनीकी अधिकारियों को बधार्इ दी तथा उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि संस्थान किसानों की समस्याओं का समाधान करने के लिए उत्कृष्ट कार्य करता रहेगा। डॉ श्रीवास्तव ने भैंस पालन में वैज्ञानिक तौर - तरीके, उचित प्रजननविधि एवं थनैला रोग से बचाव के महत्व पर प्रकाश डाला। डॉ रामेश्वर सिंह ने किसानों से आहवान किया कि दूध के उत्पाद बना कर बेचने से वे ज्यादा मुनाफा काम सकते हैं I

और पढ़ें ...
 
मुद्रण ई-मेल

केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान निदेशक, 'कृषि उन्नति मेला' के दौरान माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी को चैंपियन भैंस बैल दिखाते हुए

निदेशक भाकृअनुप केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थानडॉ इंद्रजीत सिंह आईएआरआईपूसानई दिल्ली में 19 मार्च को 2016 'कृषि उन्नति मेलामें माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी को अभिजात वर्ग भैंस जर्मप्लाज्म के महत्व को समझाया। माननीय प्रधानमंत्री मेले में संस्थान द्वारा दिखाया अभिजात वर्ग भैंस जानवरों में गहरी रुचि ले लिया। डॉ सिंह ने माननीय प्रधानमंत्री को बताया कि अकेले भैंस देश के दुग्ध उत्पादन का लगभग 53% योगदान और केवल यह पूरे देश में दूध उत्पादन में नंबर 1 है। इसके अलावाभैंस के मांस देश तीस हजार रुपये सालाना कमाता है। किसानों भैंसों से अतिरिक्त आय अर्जित कर रहे हैं और वे नारे 'मेक इन इंडियाके लिए सबसे अच्छा फिट बैठता है।

 


  

 

 

 

 

 

 

 
मुद्रण ई-मेल

ICAR-CIRB become India’s second center to produce a cloned buffalo

Hisar: In a unique achievement, Dr. Inderjeet Singh, Director, ICAR-Central Institute for Research on Buffaloes (CIRB) informed that institute scientists produced cloned calf ‘HISAR  GOURAV’ on December 11, 2015 at 11:30 AM, birth weight of 40.4 kg born through normal delivery.

This cloned buffalo calf is distinct from the earlier clones produced in India, as this  is produced from cells of ventral side of tail of superior buffalo bull, this part is least exposed to sunlight and may have less mutation rate, and can  be good choice for isolation of donor cells to produce healthy clones. The newborn cloned calf is maintaining good health and showing normal activities. Dr Singh emphasized that the use of adult somatic cells of proven males or quality females for cloning can bring revolution by multiplying the superior buffalo germplasm in country. With this achievement CIRB becomes world’s third and India’s second institute to produce cloned buffalo. This achievement has been made under the project entitled, Cloning for conservation and multiplication of superior buffalo germplasm

और पढ़ें ...
 
मुद्रण ई-मेल

ASEAN training on Reproductive Biotechnology at ICAR-CIRB, HISAR

ICAR-Central Institute for Research on Buffaloes, Hisar organised a 10-day training programme (Jan31 – Feb9, 2017) on ‘Buffalo production using reproductive biotechnology’ for delegates from ASEAN countries.  The program was sponsored by the ASEAN-India Joint Cooperation Fund. The training was attended by sixteen participants from 8 ASEAN member countries – two each from Cambodia, Indonesia, Lao, Malaysia, Myanmar, Philippines, Thailand and Viet Nam. During this training the participants were acquainted with the modern biotechnology tools for use in livestock production systems especially buffaloes. Various topics and practicals were covered by experts from CIRB and leading outside institutes. 

और पढ़ें ...
 
मुद्रण ई-मेल
 Meeting onStrengthening Extension Services” on convergence mode for dairy development
 A meeting on Strengthening Extension Services on convergence mode for dairy development was organized by ICAR-CIRB  under the chairmanship of Director, Dr. I J Singh on 7th January, 2017 to delineate the roles and expectations of  various agency working for dairy development on  convergence mode . On this occasion,  Dr. V V Sadamate, former advisor Planning Commission was the chief guest and presented his key note address. Stakeholders of dairy development representing research institutions like Director ATARI (Zone-I), Dr. Rajbir Singh, Director Extension LUVAS, Dr. Sudhiranjan Garg, Additional Director training, Dr. Nishi Sethi, Head Extension CCS HAU, Dr. Pradeep Sehrawat were present on the occasion. 
     
 
और पढ़ें ...
 
« प्रारंभ करनापीछे123456789अगलाअंत »

पृष्ठ 1 का 9

फोटो गैलरी

नवीनतम प्रकाशन

    

AnnualReport  AnnualReport(Hindi)

               2015-16

   

  Network Report    
FAO-IAG
 
                             Cerificate              
 
Newsletter         Drought -  
 2014-15           Its impact on  
                        Livestock
 
ISO                           ISO
Certificate
Renewed
 
    
 

This website belongs to , Indian Council of Agricultural Research, an autonomous organization under the Department of Agricultural Research and Education, Ministry of Agriculture, Government of India RTI | Disclaimer | Privacy Statement
Designed and Maintained by AKMU,CIRB